सिख ये भी है

[14/07 4:40 pm] Monakhaan: भली लगने वाला सलाह बुरी क्यों सबित होती है

और हमारी एक सहज टिप्पणी किसी को किस कदर असहज कर जाती है इस पर गौर करें तो सुखद रिश्तों की शुरुआत आज से ही हो सकती है

[14/07 4:51 pm] Monakhaan: बगै़र खर्च बांटे खुशी

हम लोग दुसरों को कुछ देने से पहले सौ बार सोचते है क्योंकि इसके लिए खर्च करना पडता है

लेकिन सुखद आश्चर्य की बात है तु दुनि़याँ की सबसे बेशकीमती चीज खुशी देने के लिए अधिकांश मामलो में बिल्कुल भी खर्च नही करना पड़ता या फिर यह काम बहुत मामुली खर्च पर हो जाता है।ऐसा भी नही है की औरो को खुशी देने  के बदले हमे कुछ न मिलता हो।

इससे हमारे रिश्तें बेहतर बनते है

बदले में लोग हमें खुशी देते है

हमारा कारोबार बढ़ता है और सबसे बडी बात खुशी के साथ आत्मिक संतुष्टि का बोनस भी मिलता है

Twitter : @momeenaofficial

Website monakhaan

Advertisements

Author: MonaKhaan_

I keep my ideals, because in spite of everything I still believe that people are really good at heart.