अधूरा सुकून

Twitter: @Mona_khaan

Posted on  : 10.march.2017

तेरे इश्क में जो सुकुन है ना बहुत ढुंढा कही ना मिला..सब कुछ पा लिया फिर भी अधुरी सी लगती जिंदगी तेरे इश्क के उसे सुकुन के बिन किसी भी मोहब्बत से क्या चाहिएं?….बस सुकुन! सुकून है तो जिंदगी हसीन है! सुख दुख तो आता जाता रहता है पर अगर आपको दुख में भी सुकुन मिले तो उसी को सच्ची मोहब्बत कहते हैं और मेरा इश्क मेरा ये सुकुन तेरे साथ का मोहताज नही…. मुझे तेरे इश्क मे सिर्फ सुकुन की talaash रहती है….और वो सुकुन मेरी वफाएं दे देती है मुझे

तेरे इस इश्कदारीयों को मैं जब लिखती हूं तो जो सुकून मिलता है ना उसी सुकून से मुझे मोहब्बत है

सच्ची मोहब्बत वही होती है जिसमें साथ की परवाह नहीं सुकून की तलाश हों!…यादों से जिस मोहब्बत में सुकुन मिले तो उस मोहब्बत की तो मैं जिंदगी भर इबादत करलुँ…..तेरी मोहब्बत में मैंने सिर्फ सुकून की तलाश की हैं और जहां सिर्फ सुकून की तलाश हो तो वहां सुकून मिल ही जाता है

यह जरूरी नहीं हर बार मोहब्बत में मंजिल मिल जाए कभी कभी सुकुन से भी जिंदगी के रंग भर जाते है..))….तेरे साथ से ज्यादा सुकून मायने रखता है मुझे तेरी मोहब्बत में

किसी और चीज की मैं अगर ख्वाहिश करती तो शायद निराश हो जाती है लेकिन तेरे इश्क में मैंने सिर्फ सुकून को देखा है सुकून को अपनाया है और तेरे इश्क में मुझे सुकून मिला है क्योंकि मैंने अपने दिल से तुझे इश्क किया..

बात अगर मोहब्बत की हो तो फिर इस दुनिया की फिक्र कोई भी आशिक नहीं करता!

इतनी समझ तो नहीं है कि मोहब्बत को कैसे निभाउ या मोहब्बत होती क्या है! क्या इस मोहब्बत में कोई शर्त भी होती है?  यार फिर बिना शर्त के ही इस मोहब्बत को निभाया जाता है कुछ भी नहीं पता इस मोहब्बत के बारे में लेकिन तुझसे जो मेरा सुकून जुड़ा है मैं तो उसी सुकून को मोहब्बत कहती हूं शायद तेरा सुकून किसी और से जुड़ा होगा लेकिन मुझे तो तेरी यादों से तेरी बातों से तेरे एहसान से तेरी हर एक बात से सुकून मिलता है और इसी सुकून को मैं मोहब्बत करती हूं और ऐसी मोहब्बत को मैं जिंदगी भर निभाऊंगा

जानती हूं पता है समझती भी हूं तेरी हर बात से मेरा सुकून जुड़ा है …लेकिन अगर मैं तेरे बगैर जी सकती हूं तो तेरे सुकून के बगैर भी मैं जी सकती हूं ““
माना तुझसे जो इश्क है वह मेरा सुकून है मेरी जिंदगी है मेरी वफादारी है मेरी खामोशियां हैं मेरी ख्वाहिश हैं मेरी तमन्ना है मेरी बेकरारी यां हैं मेरी गुस्ताखियां है मेरी कमजोरियां हैं..🚬एक word में बोलूं तो मेरी जिंदगी है…

फिर भी देखो मैं जिंदा हूं तुम्हारे बिन क्योंकि आज तक तुम्हारा साथ तो मुझे कभी मिला ही नहीं था लेकिन तुझसे तेरी बातों से तेरी यादों से तेरे एहसांस तेरे अधुरे वादों से जो सुकून मुझे मिला उसी से मुझे इश्क था उसी से मुझे मोहब्बत थी उसी से मुझे प्यार था वह तुझसे जुड़ा सुकून ही मेरी जिंदगी था…….✍

क्या जिस मोहब्बत में जिंदगी भर साथ रहे वही मुकम्मल मोहब्बत होती हैं ?..ऐसा तो नहीं ना !.तेरा साथ ना सही तेरी यादें हैं तेरी वह बातें हैं तुझे याद करके जो सुकून मिलता है वह सुकुन आज भी साथ है और जिंदगी भर साथ रहेगा…….✍✍✍

तेरी हवाएं बहाएं मुझे….))::

तुझसे ज्यादा मेनें तेरी यादो पे एतबार किया है और मुझे पता है तेरी यादें मुझसे कभी भी बेवफाई नहीं करेगी…! क्योंकि उन यादों में मेरी वफा है उन यादों में मेरी मोहब्बत है उन यादों में मेरा सुकून है उन यादों में मेरा भरोसा है और मैं अपने सुकून को कभी भूलूंगी नहीं अगर मैं अपने सुकून को नहीं भुलुंगी तो तेरी यादें भी मुझसे  चाहकर भी बेवफाई नहीं कर पाएंगी…..✍

मोहब्बत क्या होती है इसको कोई एक शब्द में नहीं बता सकता मोहब्बत के तो हजारों तरीके होते हैं कोई खामोश रहकर इस मोहब्बत को निभाता है तो कोई अपना गुस्सा निकाल कर इस मोहब्बत को निभाता है कोई इस मोहब्बत में सब कुछ पा जाता है तो कोई इस मोहब्बत में कुछ भी हासिल नहीं कर पाता लेकिन इस मोहब्बत में जो सुकून है वह हर किसी को किसी न किसी तरह मिल जाता है…$

Twitter: @Mona_Khaan

Advertisements

Author: MonaKhaan_

I keep my ideals, because in spite of everything I still believe that people are really good at heart.

11 thoughts on “अधूरा सुकून”

  1. इश्क अगर इश्क है तो वो सदैव भरापूरा ही होगा. उसमें रिक्तता का प्रश्न ही नहीं है. इस लिए अधूरेपन का प्रश्न ही कहाँ उठता है? अगर अधूरेपन का अहसास होता है तो इश्क में कहीं कोई कमी है…………………….

    Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s